मंगलवार, 15 नवंबर 2011

सवाल खड़े करती शहादत


सूचना के अधिकार ने एक विश्वास पैदा किया था। यह विश्वास था अनियमितताओं में कमी आने का। क्योंकि जानकारी देने के लिए कोई जवाबदेह था, जानकारी पाना आसान था और इस बहाने किसी की चोरी पकड़ना भी आसान हो गया था। इसके साथ ही इस बात को बल मिला कि सरकारी योजनाओं में जो पैसा खर्च होता है, वह जनता का पैसा है और जनता को पूरा हक है कि वह उस पैसे का हिसाब-किताब खर्च करने वालों से मांगे। बेशक यह सब हुआ और हो रहा है, पर रास्ता कठिन से दुर्गम होता जा रहा है। शायद ही किसी ने यह कल्पना की होगी कि अपने ही पैसे का हिसाब-किताब मांगना, अपनी ही मिल्कियत को बचाना और सच का दामन पकड़ कर झूठ का नकाब खींचना इतना मंहगा भी पड़ सकता है कि जान से हाथ धोना पड़ जाएगा। सूचना का अधिकार निश्चित ही जिम्मेदार लोगों को जवाबदेह बनाने के लिए एक सशक्त औजार है, जिसका इस्तेमाल जनता के हाथ में है। सरकार इस औजार को उपयोग करने की नसीहतें भी भरपूर देती है, और उपयोग होता भी है। इसकी सफलता के उदाहरण भी छोटे से लेकर बड़े स्तर तक काफी मौजूद हैं। पर यह एक विडंबना ही है कि इन सफलताओं को प्राप्त करने में हमारे कितने निर्भीक साथी हमसे बिछुड़ गए हैं।
हाल ही में अहमदाबाद में हुई आरटीआई एक्टिविस्ट नदीम सैयद की हत्या से लेकर शेहला मसूद, नियाम अंसारी, इरफान यूसुफ काजी, बाबू सिंह, अमित जेठवा, सतीश शेट्टी, दत्तात्रेय पाटिल, विट्ठल गीते और न जाने कितने ही नाम हैं, जो महज इसलिए मौत के घाट उतार दिए गए कि वे जानना चाहते थे, जान चुके थे और उन लोगों के चेहरे पर चढ़ा भलमनसाहत का नकाब खींच रहे थे, जो सुरक्षा, विकास, बेहतरी और सेवा के नाम पर किसी दीमक की तरह काम रहे हैं। नदीम की निर्मम हत्या ने फिर से उन तमाम साथियों की याद ताजा कर दी है, जिन्होंने इस अधिकार के प्रयोग से अनियमितताओं को उजागर करने का प्रयास किया और बदले में अपना जीवन दांव पर लगा दिया। आखिर नदीम की गलती क्या थी? सिर्फ इतनी कि उन्होंने सरकार के ही एक घोषित टूल का उपयोग कर अवैध पशुवधशाला के मामले का पर्दाफाश किया, या यह कि वे पाटिया दंगा कांड के गवाह थे। क्या सतीश शेट्टी की गलती यह थी कि उन्होंने भू-माफिया को बेनकाब करने की कोशिश की, यानि सरकार के काम में अपना सहयोग दिया। यह कहा जा सकता है कि इन्होंने बड़े और ताकतवर लोगों से पंगा लिया, लेकिन बाबू सिंह और सोला रंगाराव ने तो महज अपने गांव में लड़ाई लड़ी। एक ने सरकारी फंड में प्रधान द्वारा की गई धांधली की जांच की मांग की, तो दूसरे ने नाली व्यवस्था का मुद्दा उठाया।
पूरे देश में हाल ही के वर्षों में ललित मेहता, सोमय गगरई, नारायण हरेका, विश्राम लक्ष्मण डोडिया, रामदास धावेडकर, अरुण सावंत और लांग्टुक फांको जैसे छोटे-बड़े सामाजिक कार्यकताओं, जिन्होंने सूचना के अधिकार को अपना हथियार बनाया, को मौत के घाट उतार दिया गया है।  विचारणीय बिंदु यह भी है कि जिस मसले पर काम को आगे बढ़ाते हुए ये मौत के अंजाम तक पहुंचे, वह फिर भी सरकार या स्थानीय प्रशासन की प्राथमिकता नहीं बन सका। यह बड़ा ही खेदपूर्ण है कि व्यवस्था की बेहतरी के लिए जिन्होंने अपनी जान से हाथ धोया, उन्हें केवल श्रेष्ठ कार्यकर्ता कहकर व्यवस्था-निर्माता अपनी जवाबदेही से मुक्त हो जाते हैं, बजाय इसके कि उन्होंने जो प्रश्न खड़े किए, हालात सामने लाए उन पर जिम्मेदारीपूर्ण ढंग से कार्यवाही करें। यह सच की ताकत की उपेक्षा नहीं तो और क्या है?
बेहतरी के लिए लड़ रहे इन सिपाहियों की मौत की जांच भी कई सवाल खड़े करती है। इनमें से कई हत्याओं की जांच सीबीआई तक को सौंपी गई है, लेकिन कुछ मामलों में तो यह भी पता नहीं चल सका है कि जांच कहां तक पहुंची। हमारे देश की काबिल जांच एजेंसी जब अपराधियों के गिरेबां तक नहीं पहुंच पा रही है, तो पुलिस प्रशासन की तो बात ही छोड़िए। इसकी वजह भी समझ पाना इतना मुश्किल तो नहीं है। अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि इन सबके हत्यारे लोगों के लिए जाने-पहचाने हैं, पर सरकार/प्रशासन के लिए अंजाने। और यह किसी एक क्षेत्र या राज्य की बात भी नहीं है, देश के हर कोने का आलम यही है। नदीम सैयद की हत्या भी जिन स्थितियों की ओर इशारा कर रही है, वह सत्ता के उन गलियारों की गंदगी की बदबू भर है, जहां सफाई करने की नीयत से दाखिल हुए आदमी को पता भी नहीं होता कि किस पत्ते के नीचे से जहरीला डंक निकलेगा।
बहरहाल, जितनी यह बातें साफ हैं, उतना ही यह भी साफ है कि राजा के डर से दिन को रात कहने से इनकार करने वाले कम नहीं होंगे।

शनिवार, 12 नवंबर 2011

बस एक चिट्ठी, आपके लिए...


प्रिय दोस्तो,
एक वक्त था जब खत लिखे जाते थे, संजो कर रखे जाते थे, और जब खात्मे की नौबत आती थी, तो तकलीफ की नदी में आग लग जाती थी। बकौल शायर राजेंद्रनाथ रहबर ये खत अपनी खूशबू के साथ जलाते हुए हम तड़प के उस अहसास से गुजरते थे, जहां सब कुछ खाक लगता है। इश्क की रूमानियत अब नहीं रही। बस कुछ क्लिक की हिम्मत और बीच के सारे तार टूट जाते हैं। या फिर मोबाइल में सिम बदलनी होती है, और कह दिया जाता है, सब कुछ अनकहा, एक साथ। मुहब्बत की नर्मी के बीच वे खत भी याद आते हैं, जो उस दोस्त को लिखे जाते थे, जिसके साथ बचपन बीता लेकिन किशोरवय और जवानी की दहलीज पर कदम रखते ही रास्ते जुदा हो गए। मौसी से मामा और बुआ से चाची तक के रिश्तों को आत्मीय संबोधनों के साथ लिखे गए खत हों या अपने समकक्ष और अधिकारियों को लिखे गए कार्यालयीन पत्र, सभी में संवेदना से लेकर प्रतिरोध का खास अंदाज होता था। इनमें हाल-चाल की बारीकी से लेकर खत के अंत में घर आने की जिद्दी टेक भी शामिल होती थी।
पहला खत
आपको याद ही होंगे वे स्कूली दिन, हिंदी और अंग्रेजी की वे कक्षाएं जिनमें पत्र लिखना सिखाया जाता था। एक अजनबी सा नाम और पता होता था, फिर कभी आप किताबें खरीदने के लिए पिताजी से पैसे मंगाने हेतु पत्र लिखते थे, तो कभी अपने भाई की शादी में मित्र को बुलाने के लिए आमंत्रण-पत्र भेजते थे। इस दौरान पत्रों के प्रकार जानते हुए हम सभी ने अपना पहला पत्र उत्तर पुस्तिकाओं में पूरे मन से लिखा था। नंबर पाने के लिए रट्टा लगाकर याद किया गया वह पत्र कुछ इस तरह जेहन में बैठता था कि अगर आप याद करें उस पत्र को जो आपने वाकई किसी को पहली बार लिखा था, तो पाएंगे कि उसकी भाषा और शब्द विन्यास तकरीबन वैसा ही था, जैसा आपसे स्कूल में लिखवाया जाता था।
पहले प्यार की पहली चिट्ठी
प्रेम में लिखे खतों की तो दुनिया ही बड़ी रूमानी है। वो रातों को जागकर लिखे गए खत, किताबों में छुपाकर दिए गए खत, और फिर जिसका इंतजार किया जाता था, वो जवाबी खत। इश्क के रंग में डूबे इन खतों ने शाइरों, गीतकारों को लुभाया और कई कालजयी रचनाएं सामने आर्इं। एक तरफ जहां कबूतर के जरिए पहले प्यार की पहली चिट्ठी साजन तक पहुंची, तो वहीं खत में फूल भेजकर उसे दिल समझने की बात भी कही गई है। दिल-ए-बेकरार का किस्सा लिखकर लफ्जों में हाल-ए-दिल बयां करने का एक वक्त में जो जरिया था, वह खत ही था। यह प्यार के कागज पर दिल की कलम से लिखा जाता था और अब कंप्यूटर या मोबाइल के स्क्रीन रूपी कागज पर की-बोर्ड की कलम से लिखा जाता है। बहरहाल, जवाबी खत यानी ईमेल या मैसेज का इंतजार अब भी तड़प वैसी ही पैदा करता है। फर्क इतना है कि पहले काफी मशक्कतों के बाद एक खत पहुंचाने के बाद जवाब न आया, तो दूसरा भेजते वक्त लगता था, अब इंतजार में एक के बाद एक संदेशों की झड़ी लग जाती है। हाथ की लिखाई में रचे-बसे खतों से प्रियतम का चेहरा झलकता था, और इन्हें खत्म करने के लिए बढ़े हाथ थम जाया करते थे। लेकिन अब इलेक्ट्रॉनिक फार्म में मौजूद खतों से न दिलबर के हाथों की महक उठती है, न ही उसका चेहरा दिखाई देता है, उसकी लिखावट को पहचानने की तो बात दूर ही है। शायद इसीलिए इन पर डिलीट कमांड चलाने में ज्यादा तकलीफ भी नहीं होती।
चिट्ठी आई है
फिल्म ‘नाम’ का वह गीत शायद आप भूले नहीं होंगे, जिसमें वतन से चिट्ठी आने का जिक्र है। घर, गांव, शहर छोड़ किसी दूसरे नगर में बसे हर आदमी को लुभाया है इस गीत ने। कल्पना कीजिए उस वक्त की, जब ईमेल और मोबाइल नहीं थे। ऐसे में डाकिया आवाज लगाता था, तो बच्चे भागते थे दरवाजे की ओर। और चिट्ठी लेकर शोर मचाते लौटते थे कि अम्मा-पिताजी फलां की चिट्ठी आई है। चिट्ठी करीबी रिश्तेदार की हुई तो पूरा घर या तो एक-एक कर चिट्ठी पढ़ता था या फिर एक साथ बैठकर सुनता था। छुट्टियों में महिलाओं को जानकारी मिलती थी कि फलां तारीख को भाई आ रहा है, तो बच्चे खुशी से भर उठते थे कि अब मामा के यहां जाएंगे। खुशी और उल्लास का सारा माहौल बस एक चिट्ठी का ही जहूरा होता था। एक परंपरा थी कि किसी की चिट्ठी आई है, अपनी कुशल-क्षेम के समाचार के साथ उसने हमारा हाल जानना चाहा है, तो उसका जवाब देना ही है। पत्र मिलते ही उसका जवाब लिखने बैठ जाना लोगों की आदत में शुमार हो चुका था, जिसमें यह भी जिक्र किया जाता था कि परिवार का कौन-सा सदस्य कहां है और कैसा है। कई टुकड़ों में बंटा परिवार चिट्ठी में एक साथ समा जाता था।  हमारी सरकार ने भी इस सामाजिक हकीकत के ही तहत जवाबी पोस्टकार्ड का चलन दिया था।
मित्रों को लिखे पत्रों में शब्द कुछ यूं बयां होते थे मानो आमने-सामने बैठकर बात कर रहे हों। बदले वक्त में संचार माध्यम बढ़े, तो यह बानगी कम होती गई। ईमेल की तेजी और फॉन्ट्स की कारीगरी वह उल्लास पैदा नहीं कर पाती जो 25 पैसे के पोस्टकार्ड में होता था। भागती-दौड़ती जिंदगी में टुकड़ों में बंटा परिवार ईमेल में एक-साथ दिखाई नहीं देता। घर के बुजुर्गों के लिए ईमेल आज भी एक दूसरी दुनिया का शब्द है, सो हम उनके हाल-चाल जानने और गांव की गलियों की लय सुनने से महरूम हो गए हैं। याद कीजिए जरा कि आखिरी बार मौसी, बुआ, दादी या नानी की लिखी हुई कोई चिट्ठी-पत्री कब पढ़ी थी। यह भी तो हमारे समय का ही सच है कि ईमेल एड्रेस में दोस्त ज्यादा हैं, परिवार के सदस्य कम।
गुम हो गया पता
कहते हैं कि अगर आप कागज-कलम का इस्तेमाल करके कुछ लिख रहे हैं, तो वह अरसे तक जेहन में मौजूद रहता है। एक जमाना था जब लोगों के पते जुबानी याद थे। डायरी देखने तक की जरूरत नहीं होती थी। जबकि तब आप किसी को उतने पत्र भी नहीं लिखते थे, जितने आज ईमेल करते हैं। गौरतलब है कि पहले पूरे परिवार का एक ही पता होता था, जिसे चिट्ठी में दर्ज किया जाता था, अब एक ही परिवार के कई पते हैं, कई बार तो एक ही आदमी के कई पते हो जाते हैं। एक बहुत छोटा सा सवाल है जनाब, आपको अपने कितने मित्रों के ईमेल एड्रेस याद हैं? ....आठ-दस नामों के बाद दिक्कत पेश आने लगी न। जनाब यही है वह नतीजा जो पत्र लेखन के खात्मे से उपजा है।
सिर्फ पता ही नहीं बदला
बदलते परिवेश में न सिर्फ पते बदल गए हैं, बल्कि कागज कलम के जरिए जज्बात उकेरने की रवायत भी बदली है। कुछ खत सहेजकर रखे हों, तो जरा देखिए कि सहेजा गया आखिरी खत किस तारीख का है। उसे पढ़िए, एक-एक लफ्ज एक चित्र उकेरता है, उन यादों का, उन बातों का जिनसे उपजे हैं वे लफ्ज। फोन या ईमेल के दौर में आप कितनी बातें हूबहू वैसी याद कर सकते हैं, जैसी वे बातचीत में थीं। हूबहू तो दूर की बात, कई बार तो बातचीत ही याद नहीं होगी। खत लिखने के साथ उनकी कांट-छांट और ऊपर नीचे करने की कसरत भी खत्म हो गई। अब मेल या मैसेज में कोई बात सामने वाले को ठीक से समझ नहीं आई, तो दूसरा कर देंगे वाली स्थिति है। वाक्यों को दोहराकर फिर-फिर लिखने की आदत भी खत्म हो चुकी कवायद है। और इसी के साथ खत्म हो रही है भाषायी शुद्धता।
पत्रों में हमने कई स्मृतियां संजो रखी हैं। जो पत्र लिखा है या पाया है, उससे जुड़ी कोई स्मृति अभी तक जेहन में बाकी है। अब, जबकि तकनीकी रूप से परिष्कृत दूरभाष यंत्रों के संदेश बक्से में या ईमेल के इनबॉक्स में एकट्ठे संदेश भी मौजूद हैं, तब आखिर क्यों उनकी संख्या के अनुपात में वैसी स्मृतियां नहीं हैं, जैसे पत्रों के साथ थीं। सीधी बात है जनाब, उनकी लिखावट में हाथ की वो कारीगरी नहीं होती, जिसे देखते ही आप कह दें कि यह अमुक व्यक्ति का लिखा खत है। उसके शब्दों में वो इत्तमीनान नहीं होता जिसका रंग शब्दों के साथ-साथ कागज पर भी उभरता था। वह शब्द विन्यास नहीं रहा, जिसमें दिल की किताब नुमायां होती थी। अरसा हो गया है न कोई खत पाए हुए। ऐसा खत जिसे आप संजो कर रख सकें, बार-बार पढ़ सकें। बहुत सुखद अनुभव होगा न, जब फिर से कोई ऐसा खत लिए डाकिया आपके दरवाजे पर दस्तक देगा। यह सुखद अनुभव ज्यादा दूर नहीं है आपसे, बस एक बार अपने करीबी को पत्र लिखकर तो देखिए, जवाबी पत्र की डाक डाकिया जरूर लाएगा।

                                                                                                                                    आपका
                                                                                                                                           मैं.

गुरुवार, 29 सितंबर 2011

सरकारी योजनाएं और श्रम


भारतीय व्यवस्था में 1936 से लेकर अब तक कई कानून श्रमिकों को केंद्र में रखते हुए बनाए गए हैं। राज्य व राष्ट्रीय स्तर पर श्रमिकों के जीवन स्तर में सुधार के लिए तमाम शासकीय योजनाएं भी संचालित की गईं। कुछ में सुधार किए गए, कुछ का अन्य योजनाओं में विलयन कर दिया गया। फिर भी आज श्रमिक वर्ग की स्थिति कैसी है यह किसी से छुपा नहीं है। बेशक श्रमिकों में जागरूकता  है, अपने अधिकारों के लिए लड़ने की प्रवृत्ति व हौसला है। स्थानीय से लेकर राष्ट्रीय स्तर तक के तमाम संगठन हैं, लेकिन क्या श्रमिकों की स्थिति में सुधार हुआ है? कानूनों, शासकीय योजनाओं, प्रयासों के प्रकाश में यह सवाल बचकाना लग सकता है, पर शायद इतना छोटा भी नहीं है कि इसके बारे में गंभीरता से बात न की जाए। यह भी स्पष्ट कर देना उचित होगा कि श्रमिक का तात्पर्य सिर्फ कुदाल हाथ में लिए, सिर पर बोझा लादे और नंगे बदन वाली तस्वीर ही नहीं है, श्रमिकों का दायरा इससे कहीं अधिक व्यापक है।

शासकीय योजनाओं की बात करें, तो संप्रग सरकार की मनरेगा योजना पूर्णत: मजदूरों की योजना है। नरेगा से मनरेगा तक का सफर तय कर चुकने के बाद भी स्थिति यह है कि तकरीबन 30 प्रतिशत मजदूर आबादी रोजगार की तलाश में अब भी पलायन करती है। पिछले सालों की रिपोर्टों पर नजर डालें तो पाएंगे कि कुछ अपवादों को छोड़कर पूरे सौ दिन का काम कहीं भी मजदूरों को नहीं मिला है। यह अधिकतम 60 से 80 दिनों तक आकर अटक जाता है। यानी अब तक सरकार एक वर्ष में 100 दिन का रोजगार सभी मजदूरों को पूरे भारत में कहीं भी सुनिश्चित नहीं कर सकी। ऐसी स्थिति में यदि लोगों की सहभागिता कम हो रही है, तो यह कोई आश्चर्य की बात नहीं है।

हाथकरघा व अन्य घरेलू उद्योगों में लगे लोगों की स्थिति तो और भी खराब है। अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि आपके पास उत्पादन के लिए कच्चा माल है, उत्पादन की क्षमता है, तैयार उत्पाद हैं लेकिन बेचने के लिए स्थाई और पर्याप्त बाजार उपलब्ध नहीं है। सरकार हथकरघा उद्योग के लिए आर्थिक सहयोग प्रदान करती है, परंतु तैयार माल को बेचने के लिए खुले बाजार के नाम पर सिर्फ इतनी सुविधा प्रदान करती है कि जिला, राज्य व राष्ट्रीय स्तर पर 6 से 10 दिन की एक प्रदर्शनी लगाई जाए। रोजमर्रा के इस्तेमाल की वस्तुएं बहुत कम मूल्य पर घरेलू उद्योगों से उपलब्ध हो सकती हैं, परंतु उसे बाजार तक पहुंचाने के सरकारी प्रयास अपर्याप्त हैं। नतीजतन जब यही उत्पाद निजी कंपनियों द्वारा बाजार में पहुंचते हैं, तो कीमत तीन से चार गुना ज्यादा होती है और लाभ निजी कंपनियों की जेब में पहुंचता है। हालांकि इन उत्पादों की एक बड़ी खरीदार भारत सरकार खुद है, जिसके लिए उद्योगों का शासकीय खरीद योजना में पंजीकृत होना जरूरी है, परंतु वर्तमान में निरंतर रोजगार के लिए बढ़ते पलायन और इन उद्योगों से प्राप्त उत्पादों की बाजार में उपलब्धता के प्रतिशत को देखें, तो इस व्यवस्था की सफलता और क्रियान्वयन प्रक्रिया पर प्रश्न खड़ा होता है। सरकारी योजनाओं में इन उद्योगों को कम कीमत पर कच्चा माल उपलब्ध कराने, उद्योग स्थापना के लिए आवश्यक धनराशि मुहैया कराने, प्रशिक्षण प्रदान करने जैसी तमाम बातों का समावेश है, लेकिन उद्योग को बरकरार रखने के लिए सबसे आवश्यक तत्व 'बाजार तक पहुंच' को सुनिश्चित करने के कोई ठोस और वृहद इंतजाम नजर नहीं आते।

ऐसे ही कुछ तथ्य कानूनों के संदर्भ में भी हैं। यदि बाल श्रम उन्मूलन अधिनियम को ही देखा जाए तो काम में लगे बच्चों को शिक्षा की ओर ले जाना बहुत महत्वपूर्ण व सार्थक कदम है। बच्चों से काम कराने वालों पर दंडात्मक कार्रवाई करना भी कानून के क्रियान्वयन में उपयोगी है। तमाम सामाजिक संस्थाएं इसके लिए कार्यरत हैं, फिर भी बच्चे काम करते दिख ही जाएंगे। सवाल यह है कि बच्चे आखिर काम कर क्यों रहे हैं? जवाब आसान है - सरकार के लिए वे सिर्फ बच्चे हैं, उनके परिवार के लिए कमाऊ सदस्य। यदि 8-10 साल का बच्चा कहीं काम कर रहा है, तो निश्चित ही वह मजे के लिए नहीं कर रहा, अपने परिवार की आर्थिक आवश्यकता को पूरा करने में सहयोग कर रहा है। यानी उसके परिवार के पास रोजगार के पर्याप्त साधन नहीं हैं।

न्यूनतम मजदूरी अधिनियम के संदर्भ में अगर उत्तर प्रदेश की ही बात करें, तो न्यूनतम कृषि मजदूरी 100 रुपये है, यानी रोज काम करने पर वर्ष भर में एक व्यक्ति 36,500 रुपये कमाता है। मनरेगा में 100 दिन के काम का प्रावधान है यानी 10,000 रुपये सालाना। सरकार के आंकड़ों को ही मानें, तो प्रतिदिन भोजन के लिए औसतन 20 रुपये की जरूरत होती है, यानी साल भर में 7300 रुपये भोजन पर खर्च होते हैं। बाकी बचे 2700 रुपये से क्या साल भर के लिए स्वास्थ्य, कपड़े, आवास, शिक्षा व अन्य मूलभूत सुविधाएं प्राप्त की जा सकती हैं? खासकर तब, जबकि न्यूनतम मजदूरी वर्ष में एक बार बढ़ी हो और उपभोग्य वस्तुओं की कीमत चार बार।
यह तथ्य भी विचारणीय है कि एक तरफ तो सरकार गरीबों/श्रमिकों के जीवनस्तर में सुधार के लिए नित नई योजनाओं को अंजाम देती आई है, दूसरी ओर उन्हें निशाना भी बनाती है। जल विद्युत परियोजनाओं, बड़े बांधों, विशिष्ट आर्थिक क्षेत्रों (सेज) के नाम पर जो विकास है, उसके विस्थापितों का आज तक पूर्णत: पुनर्वास नहीं हो सका है। मैंगलौर, उड़ीसा, झारखंड, उत्तराखंड, मध्य प्रदेश व और भी कई स्थानों पर विकास परियोजनाओं के चलते आज भी विस्थापन जारी है। इन विस्थापितों के सामने रोजगार की समस्या पहले से नहीं है, बल्कि सरकार निर्मित है। जिनके पास अपने जीवन-यापन के लिए कृषि भूमि या प्राकृतिक संसाधन थे, उनसे वह भी छीने जा रहे हैं और बदले में हैं सिर्फ आश्वासन। नतीजतन जो आत्मनिर्भर थे, आज मजदूरी पर निर्भर हैं। महानगरों में निर्माण और विकास कार्यों के लिए जो मजदूर कम पारिश्रमिक पर लाए जाते हैं, काम खत्म होने पर अपेक्षा की जाती है कि वे वापस अपने गृहनगर चले जाएं, जहां से वे अपने रोजगार के संसाधनों को छोड़कर आए हैं। प्रश्न यह है कि क्या वे वापस जाकर पुन: वह रोजगार पा सकेंगे? कॉमनवेल्थ खेलों के लिए तमाम मजदूर दिल्ली आयातित किए गए और अब उनके रहने की व्यवस्था पर भी सरकार की कोई चिंता नहीं है। इस हालत में यह एक बड़ा सवाल है कि महानगरों में रह रहे मजदूरों के रोजगार के लिए क्या ठोस कदम उठाए गए हैं, सिवाय रजिस्ट्रेशन करने के।

शनिवार, 17 सितंबर 2011

कव्वाली का सफ़र



अमीर खुसरो, बाबा बुल्ले शाह, बाबा फरीद, ख्वाजा गुलाम फरीद, हजरत सुल्तान बाहू, सचल सरमस्त और वारिस शाह। ये नाम सुनते ही जो याद आता है, वह है सूफियाना रंगत में डूबा कलाम। मोहब्बत के दीन को फैलाता कलाम। और सहसा ही याद आ जाती हैं कव्वालियां। 8वीं सदी में आज के ईरान और अफगानिस्तान में संगीत की इस अद्भुत विधा ने अपनी दस्तक दी थी। अपने शुरुआती दौर से ही सूफी रंगत में डूबी यह विधा 13वीं सदी में भारत में आई। अमीर खुसरो और उनके अनुयायियों ने भारतीय संगीत के साथ इसे मिलाकर एक नया रूप दिया। आज कव्वाली के जिस रूप को हम जानते और सुनते हैं, वह यही रूप है। तकरीबन 700 साल पहले पंजाब और सिंध प्रांतों में जन-जन के बीच गहरी पैठ बना चुकी कव्वाली आज हिंदुस्तान के हर कोने और हर जुबान में गाई जाती है। फिर भला कैसे हो सकता है कि पूरे हिंदुस्तान के संगीत को एक बड़ा मंच देने वाली हमारी फिल्म इंडस्ट्री इससे अछूती रह जाती।

धूम मचाती कव्वाली
1934 में जब पहली बार फिल्म 'नाइट बर्ड' में 'हसीनों के लिए' कब्वाली आई थी, तब शायद किसी ने यह सोचा नहीं होगा, कि एक दिन कव्वाली फिल्मों का अहम हिस्सा बन जाएगी। लेकिन यह हुआ और कुछ ऐसे हुआ कि आज भी फिल्मों पर कव्वालियों का खुमार छाया हुआ है। कई फिल्में तो ऐसी रहीं, जो अपनी कहानी या अदाकारों के लिए कम जानी गईं, लेकिन उनके संगीत में शामिल कव्वाली के लिए बेतहाशा शोहरत बटोरी। ऐसी ही एक फिल्म थी 1958 में आई 'अल हिलाल'। इस फिल्म का नाम भले ही याद न रहा हो, लेकिन इसमें शामिल कव्वाली 'हमे तो लूट लिया मिल के हुस्नवालों ने' शायद ही कोई होगा, जिसने न सुनी होगी। हालांकि फिल्मी कव्वालियों में संगीत और अंदाज को लेकर शुरुआती दौर से अब तक काफी प्रयोग हुए हैं। कव्वालियों के गायन और मूल अंदाज से जितने हम परिचित है, उसके मुताबिक देखा जाए तो फिल्मी कव्वालियां एक अलग ही ढंग में नुमायां हुई हैं। बावजूद इसके कव्वाली की रूह और अंदाज को बरकरार रखती बंदिशों की भी कमी नहीं है। और देखा जाए तो असल अंदाज के नजदीक रही इन कव्वालियों ने ही सबसे ज्यादा शोहरत भी बटोरी है। फिल्म 'बरसात की रात' की कव्वाली 'न तो कारवां की तलाश है' इसी तरह की कव्वाली थी। इसके अलावा 'तेरी महफिल में किस्मत आजमा कर' (मुगल-ए-आजम), 'निगाहें मिलाने को जी चाहता है' (दिल ही तो है), 'ऐ मेरी जोहराजबीं' (वक्त), 'ये माना मेरी जां' (हंसते जख्म), 'झूम बराबर झूम शराबी' (फाइव राइफल्स), 'हम किसी से कम नहीं' (हम किसी से कम नहीं), 'पल दो पल का साथ हमारा' (द बर्निंग ट्रेन) और 'इस शाने करम का क्या कहना' (कच्चे धागे) जैसी कव्वालियां हर दौर में आती रही हैं, जिन्होंने फिल्मों में शामिल होते हुए भी अपनी अलग मकबूलियत हासिल की है और आज भी सुनने वालों के दिलों में धूम मचाए हुए हैं।

वे जो कव्वाल थे
फिल्मी कव्वालियों का इतिहास अगर टटोला जाए, तो सामने आता है कि जिन कव्वालियों ने सबसे ज्यादा मकबूलियत हासिल की, उनमें से अधिकांश को आवाज देने वाले गायक पारंपरिक कव्वाली से वास्ता रखते हैं। इस्माइल आजाद, आगा सरवर, शकीला बानो भोपाली, अजीज नाजां, यूसुफ आजाद, राशिदा खातून, जानी बाबू, उस्ताद नुसरत फतेह अली खान, अल्ताफ राजा और मुनव्वर मासूम कुछ ऐसे ही नाम हैं, जो मूलत: महफिल-ए-समा (कव्वाली की महफिल) की रौनक रहे, लेकिन जिनकी गाई फिल्मी कव्वालियों ने भी जबरदस्त धूम मचाई। हिंदी सिनेमा में यह शुरुआत होती है, इस्माइल आजाद के साथ। 'ये जालिम हसीं हैं सितमगर निराले' (जहाजी लुटेरा), 'मोहब्बत की दुनिया' (आलमआरा की बेटी) को अपनी आवाज देने वाले इस्माइल आजाद की गाई कव्वाली 'हमे तो लूट लिया' की शोहरत किसी से छुपी नहीं है। 'सांझ की बेला', 'आलमआरा', 'टैक्सी ड्राइवर', 'सरहदी लुटेरा', 'आज और कल', 'जीनत' और 'सीआईडी' जैसी फिल्मों में अपनी आवाज का जादू बिखेरने वाली शकीला बानो भोपाली की ख्याति तो देश ही नहीं विदेशों तक में अपने परवान पर रही है। महज 22 साल में कव्वाली गायन के मामले में अंतर्राष्ट्रीय ख्याति पा लेने वाले अजीज नाजां की तो बात ही अलग है। शायद आपको यकीन न हो कि फिल्मी कव्वालियों में शुमार होने के पहले ही अजीज नाजां की दो कव्वालियां बेहद लोकप्रिय हो चुकी थीं। 1972 तक उनकी गाई 'निगाहे करम' और 'झूम बराबर झूम शराबी' अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर लोकप्रिय हो चुकी थीं। उसके बाद 1973 में आई फिल्म 'मेरे गरीब नवाज' में इन दोनों की झलकियां दिखाई गई थीं। फिर जब 1974 में आई एस जौहर की फिल्म 'फाइव राइफल्स' आई, तो उसमें 'झूम बराबर झूम' पूरी तरह से शामिल की गई। इसके बाद 'रफूचक्कर', 'फकीरा', 'लैला मजनूं', 'नहले पे दहला', 'कुर्बानी' और 'उस्तादी उस्ताद से' जैसी कई फिल्मों में उनकी गाई कव्वालियों की धूम बरकरार रही। बीच-बीच में पारंपरिक कव्वालियों से हटकर कुछ फ्यूजन कव्वालियां भी आती रहीं या फिर सॉफ्ट कव्वालियों जैसा कुछ भी चलता रहा, लेकिन कव्वालियों का मूल अंदाज फिल्मों में दिखाई देता रहा। हालांकि 90 के दशक तक आते-आते कव्वालियां फिल्मों से तकरीबन नदारद हो गई थीं, या फिर जिस तरह की कव्वालियां आ रही थीं, वे परंपरागत स्वरूप से बहुत अलग किस्म की थीं, लेकिन जब 1997 में नुसरत फतेह अली खान 'जिंदगी झूमकर मुस्कुराने को है' (और प्यार हो गया) लेकर आए, तो फिर से पारंपरिक कव्वाली गाने वालों की फिल्मों में जगह बनी और अल्ताफ राजा, मुनव्वर मासूम जैसी कव्वालों ने अपनी आवाज का जादू बिखेरा।

जो नहीं थे कव्वाल
पारंपरिक कव्वाली के हुनर से ताल्लुक रखते गायकों ने तो अपनी धूम मचाई ही, लेकिन सुगम-संगीत और शास्त्रीय संगीत के दिग्गजों ने भी कम धमाल नहीं मचाया। मन्ना डे, मोहम्मद रफी, शमशाद बेगम, लता मंगेशकर, किशोर कुमार और आशा भोंसले की आवाजों में सुनाई देने वाली कव्वालियां आज भी अपना जलवा बिखेरती हैं। 'ऐ मेरी जोहराजबीं' (वक्त), 'निगाहें मिलाने को जी चाहता है' (दिल ही तो है), 'कहा है उन्होंने ये राजे मोहब्बत' (अनहोनी), 'कभी बेकसी ने मारा' (अलग-अलग), 'पर्दा है पर्दा' (अमर अकबर एंथनी), 'कभी हमसे कभी गैरों से' (अरब का सितारा) जैसी कव्वालियों में जहां इन गायकों ने  अलग-अलग इस विधा को जबरदस्त प्रस्तुति दी है, वहीं 'न तो कारवां की तलाश है' (बरसात की रात), 'निगाहे शौक से कह दो' (वांटेड) और 'महंगाई मार गई' (रोटी कपड़ा और मकान) जैसी कव्वालियों में इन्होंने मिलकर एक अनूठा समां बांधा है, जिसमें मुकेश, नरेंद्र चंचल जैसे फिल्मी और बातिश, जानी बाबू जैसे कव्वाली गायक भी शामिल रहे हैं। पारंपरिक कव्वाली के मंझे हुए गायकों से शुरू हुआ फिल्मी कव्वालियों का सफर 60 के दशक तक एक नई राह मुड़ चुका था और इसके मुसाफिरों की संख्या में भी भारी बदलाव हो चुका था। पारंपरिक अंदाज से हटकर एक नए कलेवर में कव्वालियां सामने आने लगी थीं और कव्वाली गायन के लिए रफी, मन्ना डे और आशा भोंसले पहली पसंद बन चुके थे। जहां एकल गायन की बात आती तो बाजी अधिकतर रफी और आशा भोंसले के ही हाथ आती। हालांकि लता भी इस मामले में किसी कदर पीछे नहीं रहीं। 'मुगल-ए-आजम' में शमशाद बेगम के साथ गाई 'तेरी महफिल में किस्मत आजमा कर' जितनी लोकप्रिय हुई, उतनी ही लोकप्रियता उस कव्वाली को भी मिली, जिसे लता ने अकेले ही गाया था। यह कव्वाली थी फिल्म 'अल्लाह ये अदा कैसी है इन हसीनों में, रूठें पल में न माने महीनों में' (मेरे हमदम मेरे दोस्त)। बाद के दौर में मोहम्मद अजीज, सोनू निगम, विनोद राठौर जैसे गायकों ने भी कव्वाली गायन में ऐसी ही शोहरत हासिल की।

लिखने का हुनर
कव्वालियों ने खूब शोहरत बटोरी और उन्हें गाने वालों ने भी, लेकिन उन्हें मकबूलियत दिलाने में उनके शब्दों ने भी बड़ी अहम भूमिका निभाई है। फिल्मी कव्वालियों में एक तरफ जहां अमीर खुसरो का लिखा 'आज रंग है री' जैसा कलाम शामिल किया गया, वहीं बाबा बुल्ले शाह, वारिस शाह और गुलाम फरीद जैसे सूफी संतों का कलाम भी खूब इस्तेमाल किया गया। अगर फिल्मी गीतकारों की बात की जाए तो कव्वालियां लिखने में नख्शब, साहिर लुधियानवी और मजरूह सुल्तानपुरी इस विधा के विशेषज्ञ माने जाते थे। नख्शब 60 के दशक से पहले के गीतकार थे, उस दौर में आईं अधिकांश कव्वालियां उन्होंने ही लिखी हैं। नख्शब निर्देशक भी थे। 1945 में आई फिल्म 'जीनत' की मशहूर कव्वाली 'आहें न भरीं शिकवे न किए' नख्शब की ही लिखी हुई है। बाद के दशकों में कव्वाली लेखन के मामले में साहिर लुधियानवी फिल्मकारों की पहली पसंद थे। 'न तो कारवां की तलाश है' (बरसात की रात), 'निगाहें मिलाने को जी चाहता है'(दिल ही तो है), 'चांदी का बदन' (ताज महल), 'वाकिफ हूं खूब इश्क के' (बहू बेगम), 'ऐ मेरी जोहराजबीं' (वक्त) जैसी मशहूर कव्वालियां साहिर ने ही लिखी हैं। वैसे 'हाल क्या है दिलों का न पूछो सनम' (अनोखी अदा), 'पर्दा है पर्दा' (अमर अकबर एंथनी) जैसी कव्वालियों में मजरूह सुल्तानपुरी की लेखनी ने भी कमाल ढाया है। इसके अलावा नाजा शोलापुरी (झूम बराबर झूम शराबी), शेवन रिजवी (हमे तो लूट लिया), शकील बदायूंनी (तेरी महफिल में), आनंद बख्शी (सच्चाई छुप नहीं सकती), वर्मा मलिक (महंगाई मार गई - रोटी कपड़ा और मकान, राज की बात कह दूं तो - धर्मा) ने भी फिल्मी कव्वालियों को शोहरत के सातवें आसमान पर पहुंचाने में शब्दों की जबरदस्त बाजीगरी दिखाई है।

संगीत का तड़का
फिल्मी कव्वालियों से श्रोताओं को झूमने के लिए मजबूर कर देने वाला संगीत का जादू जगाने में रोशन का नाम पहले नंबर पर आता है। हालांकि रोशन के पहले भी कव्वालियां कम लोकप्रिय नहीं थीं, लेकिन उनका रंग पारंपरिक कव्वाली वाला ही था। आज फिल्मी कव्वालियों के जिस रूप से हम वाकिफ हैं, वह रोशन की ही देन है। रोशन की फिल्मी कव्वालियों का रंग ऐसा चढ़ा कि आज तक नहीं उतरा है। पाकिस्तान यात्रा के दौरान रोशन ने सुनी कव्वाली 'ये इश्क इश्क है', और अनुमति लेकर अपनी फिल्म 'बरसात की रात' में इसका जो बेहतरीन इस्तेमाल एक नए अंदाज में किया, तो यह आज तक की सबसे चर्चित कव्वाली बन गई। संगीतकार रोशन के बाद यह जादू बिखेरा लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल और कल्याणजी-आनंदजी ने। इन जोड़ियों ने 'अनोखी अदा', 'द बर्निंग ट्रेन' 'शंकर शंभू' जैसी कई फिल्मों में कव्वाली का अद्भुत जादू जगाया। 'पर्दा है पर्दा' तो लक्ष्मी-प्यारे की सबसे लोकप्रिय कव्वालियों में शुमार की जाती है। हालांकि रोशन के जगाए जादू में भी बाद के दशकों में परिवर्तन हुए, खासकर 90 के दशक के बाद जब फिर से कव्वालियां फिल्मों में शुमार हुईं, तो एक नया ही रूप सामने था। इस नए रूप को कहा गया टेक्नो कव्वाली। पारंपरिक के साथ पॉप और रॉक म्युजिक के फ्यूजन से बना था यह रूप। कमाल की बात तो यह कि हिंदी फिल्मों में संभवत: पहली टेक्नो कव्वाली पारंपरिक कव्वाली की अजीम शख्सियत उस्ताद नुसरत फतेह अली खान ने गाई थी। फिल्म 'और प्यार हो गया' की कव्वाली 'जिंदगी झूम कर मुस्कुराने को है', संभवत: पहली टेक्नो कव्वाली है। इसके बाद तो 'इश्क का रुतबा इश्क ही जाने' (कारतूस), 'तुमसे मिलके दिल का है जो हाल' (मैं हूं न) और 'कजरारे-कजरारे' (बंटी और बबली) जैसी टेक्नो कव्वालियों ने बेतहाशा धूम मचाई, जिनमें नुसरत फतेह अली खान, अनु मलिक और शंकर-अहसान-लॉय जैसे संगीतकारों ने गजब के प्रयोग किए। हालांकि नुसरत ने 'इस शाने करम का' (कच्चे धागे) जैसी पारंपरिक कव्वाली से भी लोगों को झूमने पर मजबूर किया है। यह भी बड़ी ही दिलचस्प बात है कि संगीत के क्षेत्र में तमाम सफल प्रयोग करने वाले संगीतकार ए आर रहमान कव्वाली के मामले में पारंपरिक अंदाज को ही तरजीह देते हैं। टेक्नो कव्वालियों के दौर में रहमान ने फिल्म 'फिजा' में 'पिया हाजी अली' जैसी पारंपरिक कव्वाली देकर जो धूम मचाई थी, वह आज भी बरकरार है। उनकी 'ख्वाजा मेरे ख्वाजा' (जोधा अकबर) और 'अर्जिंयां' (दिल्ली-6) जैसी कव्वालियां पारंपरिक कव्वालियों की परंपरा को फिल्मों में आज भी एक खास मुकाम दिलाने में कामयाब रही हैं।
(२० मई २०११ को जनवाणी में प्रकाशित)

रविवार, 7 अगस्त 2011

यादों में शुमार बेटियां

पता ही नहीं चला
कि कब हो गईं वे बड़ी
हर बीतते पल के साथ
कब शामिल हो गईं 
वे हमारी आदतों में 
हमारे सपनों को कब
बना लिया उन्होंने अपना

जब सो रहे होते थे हम
अपनी थकन से चूर
तब कितनी बार माथे को छूकर
जाँची हमारी तबीयत
कब चाहिए हमे क्या
कैसे याद रह जाता है उन्हें
हमने सोचा ही नहीं कभी

पर जब चली गईं वे
पराये घरों की आदतों का ध्यान रखने
तब अक्सर याद आई हैं
हमारी यादों में शुमार हो चुकीं 
बेटियां.

मंगलवार, 5 जुलाई 2011

पैरहन ख्वाबों का...

अरसे बाद कुछ लिखा है, हालांकि खुद इस लिखे से संतुष्ट नहीं हूँ, फिर भी.....
कहते हैं न कि कुछ ना होने से, कुछ होना बेहतर है...

पैरहन ख्वाबों का तुमने ओढ़ा दिया, अच्छा किया
हमारी हकीकत ढांप दी, पर्दा दिया, अच्छा किया

हम न समझे थे कभी ख्वाबों में कैसे आखिर जिएं
तुमने हमको ये अदब सिखला दिया, अच्छा किया

हम थे बच्चे तुम थे वालिद ये तुम्हे करना ही था
जिसको बजाए जा रहे हैं, झुनझुना दिया, अच्छा किया

अच्छे बुरे के फर्क में हम नादान थे उलझे रहे
चोर सब होते हैं भाई, दिखला दिया, अच्छा किया

कुछ के लिए मजबूरी थी, कुछ के लिए औजार थी
भूख उम्दा व्यापार है, तुमने किया, अच्छा किया |

शनिवार, 11 जून 2011

यकीन की ईंटें, मोहब्बत का गारा


हमारी जिंदगी तमाम रिश्तों के ताने-बाने में बुनी है। कुछ रिश्ते हमें विरासत में मिलते हैं, तो कुछ हम खुद बनाते हैं। खुदमुख्तारी में बनाए गए हमारे रिश्तों में एक रिश्ता बड़ा ही खास है। दुनिया के सबसे हसीन रिश्तों में से एक है यह रिश्ता, जिसकी मिसालें देते हुए कोई कभी थकता नहीं है। इस रिश्ते के लिए कुछ भी कर गुजरने का जज्बा इसकी गहराई को जुबान देता है। लेकिन बेखयाली में अक्सर हम इस रिश्ते की अहमियत को नहीं समझ पाते, और बना बैठते हैं एक न दिखाई देने वाली दीवार, जो वक्त के साथ-साथ फासले भी बढ़ाती जाती है। फिर भी इस रिश्ते की कशिश ताउम्र बरकरार रहती है। आखिर सबसे बड़े रिश्ते का रुतबा हासिल कर चुकी इस दोस्ती की बस्ती में क्यों आती हैं ये आंधियां, और क्यों हर बार ये फिर से बसने को रहती है तैयार? 


मैं अकेला ही चला था जानिब-ए-मंजिल मगर
लोग साथ आते गए और कारवां बनता गया

मजरूह सुल्तानपुरी का यह शेर हर उस शख्स की जुबां पर कभी न कभी जरूर आया है, जिसने दोस्ती और दोस्तों की मुहब्बत के दायरे की कोई हद मुकर्रर नहीं की। जिंदगी के हर मोड़ पर साथ आए हर साए को जिसने अपना दोस्त तसलीम किया। दोस्ती, एक ऐसा लफ्ज, जिसके मायनों को हर दौर में, हर शख्स ने अपनी-अपनी तरह से एक इबारत देने की कोशिश की, लेकिन शायद ही कभी हुआ हो कि वह उस इबारत से खुद पूरी तरह मुतमइन हुआ हो। उम्र के अलग-अलग पड़ावों पर नि:तांत निजी तजुर्बों से दो-चार होते हुए ये इबारतें बदलती रही हैं। वक्त के साथ इबारतें बदलीं, मायने बदले, यहां तक कि लोगों के साथ-साथ दोस्ती की फितरत भी बदली, लेकिन इसमें कुछ तो खास है। ऐसा, जिसने इसके दायरे को वसीह किया है, जिसके चलते सारे जहां में इसका जिक्र उस जज्बे के साथ किया जाता है, जहां इसकी मुखालफत में एक भी लफ्ज की जगह नहीं है। यह दुनिया का एक अदद ऐसा रिश्ता है, जिसमें लड़ाई-झगड़े हैं, आलोचनाएं हैं, मन-मुटाव हैं, दोस्त की गलतियां हैं, लेकिन जिसकी अपनी एक भी खामी कोई नहीं गिना पाता। शायद यही वह वजह भी है, जिसने इसे सबसे कीमती और सबसे अजीज रिश्ते का रुतबा बख्शा है।

तामीर है हमारी
जब हमारी आंखें इस दुनिया से चार होती हैं, तो हमारे साथ होते हैं वे रिश्ते जिन्हें हम खुद तय नहीं करते। पैदाइश सिर्फ एक इंसान की नहीं होती, साथ ही जन्म लेते हैं वे तमाम रिश्ते, जो ताजिंदगी हमारे साथ चलने का दंभ भरते हैं और कहलाते हैं खून के रिश्ते। कभी जिनका खून पतला होता है तो कभी गाढ़ा। इन रिश्तों को निभाने की हम कोई शर्त तय नहीं करते, कोई कायदा भी नहीं बनाते, बल्कि पहले से मौजूद कायदों और शर्तों को ही जीते हैं। जब कभी इनमें कोई दरकन आती है, तो जुमला नुमायां होता है कि रिश्ता कोई हमने थोड़े ही बनाया था। शायद इसी वजह से इस दरकन की तकलीफ भी जल्द ही जज्ब हो जाती है। लेकिन दोस्ती के रिश्ते की बुनियाद हम खुद तैयार करते हैं, इस पर यकीन की इमारत खुद ही तामीर करते हैं, और इसे जीने के कायदे भी खुद ही तय करते हैं। बुनियाद रखने के साथ ही इस रिश्ते से शर्त जैसे लफ्ज को गैर-जरूरी मानकर बाहर फेंक दिया जाता है। अक्सर दोस्ती के बारे में जिक्र करते हुए कहा जाता है कि दोस्ती में कोई शर्त नहीं होती। सुनने में निहायत रूहानी लगने वाला यह जुमला बोलने वाले शायद इस रिश्ते की एकमात्र जरूरी शर्त को भूल जाते हैं। ईमानदारी है वह शर्त। ईमानदारी के बिना न तो बुनियाद मजबूत होती है और न ही यकीन की इमारत बुलंद होती है। जब भी हमारी तामीर इस इमारत की दीवारों में दरकन की पहला वाकया नमूदार होता है, तब अक्सर हम उस मोहब्बत का पलस्तर उस पर चस्पां कर देते हैं, जो हमारे बनाए कायदों में शामिल होती है। लेकिन जब इस दरकन से यकीन की र्इंटें गिरने लगती हैं, तब अहसास होता है कि ईमानदारी के गारे की कमी थी। तब जिन शिकवे-शिकायतों का सिलसिला शुरू होता है, उनका खास मरकज होती है यह ईमानदारी। चूंकि इस खूबसूरत बुत को तराशने वाले हम खुद ही होते हैं, इसलिए इसकी टूटी किरचें ताउम्र हमारे जहन में किसी नीमकश तीर की तरह खलिश पैदा करती रहती हैं। कभी जज्ब न हो पाने वाली यह तकलीफ बस एक नासूर बनकर रह जाती है।

खुली किताब सा खास दोस्त
उम्र के साथ-साथ बदलते जिंदगी के पड़ावों पर हमारे दोस्तों की फेहरिस्त में कई नाम शुमार होते हैं। कुछ 'सिर्फ दोस्त' होते हैं, कुछ 'दोस्त', और एक कोई होता है, जिसे हम 'खास दोस्त' के तमगे से नवाजते हैं। आपकी जिंदगी में भी कोई एक ऐसा शख्स जरूर होगा। आप ही बताएं कि यह खास दोस्त क्या होता है? सोचने की जहमत न उठाएं जनाब, जवाब हम ही आपको मुहैया कराते हैं। 'एक ऐसा दोस्त जो हमारी तकलीफों को समझे, जो हमारी आदतों-जरूरतों को समझ सके, जब हमें उसकी जरूरत हो, वो हमारे साथ खड़ा हो, जिससे हम अपनी हर बात साझा कर सकें, जिसके कंधे पर अपना सिर रखकर रो सकें', और ऐसे ही कुछ और जुमले गूंज रहे हैं न आपके जेहन में। लेकिन साहबान, कहीं आप बुरा तो नहीं मानेंगे अगर हम कहें कि आप स्वार्थी हो रहे हैं। खुद ही गौर करें, हर जुमले में आप अपनी ही जरूरतों को अहमियत दे रहे हैं। एक बार भी जिक्र नहीं किया कि आपके 'खास दोस्त' की जरूरतें क्या हैं, उसकी पसंद क्या है, या आप उसकी आदतों से कितने वाकिफ हैं। आपका हर जुमला अगर हकीकत में तब्दील हो जाए तो जाहिर है कि आपको खास दोस्त नसीब होगा, लेकिन यकीन जानिए आप उसके खास दोस्त में शुमार नहीं किए जाएंगे। बेशक यह इस हाथ दे उस हाथ ले वाला रिश्ता नहीं है, मगर कहा जाता है कि दोस्त एक-दूसरे के सामने खुली किताब की मानिंद होते हैं। अगर यह 'दोस्तों' के बारे में कहा जाता है, तो 'खास दोस्त' तो उस किताब का दर्जा रखते हैं, जिसके एक-एक वरके पर लिखी इबारत आप कई-कई बार पढ़ चुके हैं, जिसके हर लफ्ज से आप बावस्ता हैं। मगर चाहत अक्सर इससे उलट होती है। दरअसल हम अपनी किताब ही दोस्तों को पढ़ाने की कोशिश में मुब्तिला रहते हैं। आहिस्ता-आहिस्ता पीले पड़ते जा रहे उसकी किताब के वरकों पर लिखी इबारत जब तक हम पूरी पढ़ पाते हैं, तब तक ये पन्ने चटकने लगते हैं।

मीठी-कड़वी दोस्ती
अक्सर हम उम्मीद करते हैं कि हमारा दोस्त हर हाल में हमारे साथ खड़ा होगा। उस वक्त भी, जब हमारे अजीज, हमारे करीबी, यहां तक कि हमारा परिवार भी हमसे मुंह फेर लेगा। इस बात में कोई दो राय नहीं है कि यही एक अच्छे दोस्त की निशानियां भी हैं। लेकिन जब इन हालात में हमारा दोस्त भी नासेह बह नसीहतें देने लगता है, तो बहुत नागवार गुजरता है। कई बार अपने दोस्त पर बेइंतहा गुस्सा भी आता है। लेकिन अगर हम उसे अपना अच्छा दोस्त मानते हैं तो लाजिम है कि उसकी नसीहतों पर गौर करें। बहुत मुमकिन है कि हम गलती पर हों और दोस्त से अपनी तरफदारी की उम्मीद कर रहे हों। दोस्त अगर अच्छा है, सच्चा है तो नसीहतें देने और तीखा बोलने से उसे जरा भी गुरेज नहीं होगा। एक बड़ा ही रूमानी जुमला उछाला जाता है दोस्ती की गहराई को जुबान देने के लिए, दोस्त के लिए कुछ भी कर गुजरने का, दोस्ती में सब कुछ जायज करार दिए जाने का। यह जुमला सुनते ही हम रूमानियत और मोहब्बत के समंदर में अपनी कश्ती को दौड़ाने लगते हैं, दिल का बाग गुलजार हो जाता है। यह जुमला बोलने वाला शख्स दुनिया का सबसे प्यारा इंसान नजर आता है। अच्छा है, अगर दोस्तों के बीच रहकर भी ऐसी रूमानियत न हो, ऐसा जेहनी सुकून न हासिल हो, तो और कहां होगा। वेशक ये लम्हे हमारी जिंदगी के सबसे हसीनतरीन लम्हों में शुमार किए जाने के काबिल होते है, लेकिन जब कोई दोस्त इस जुमले को हकीकत में बदलने लगे, तो जरा चौकन्ना हो जाना ही मुफीद है। असल में, दोस्ती के लिए कुछ भी कर गुजरने का जज्बा मोहब्बत की उस कशिश से लबरेज होता है, जिसमें अच्छे-बुरे, सही-गलत का फर्क करना नामुमकिन हो जाता है। कहा भी जाता है कि मोहब्बत अंधी होती है। इसी अंधी मोहब्बत से पैदा होता है यह जज्बा, जिसमें चीजों, हालातों में मुनासिब फर्क न कर पाने के चलते दोस्त अक्सर उस बात में भी साथ देने के लिए तैयार हो जाते हैं जो गैरमुनासिब हैं, जिन्हें परवान न चढ़ने देने में ही हमारी बेहतरी है। मगर क्या करें कि हमारी फितरत ही कुछ ऐसी है कि अच्छे दोस्त की कड़वी बातें हमें नागवार गुजरती हैं और एक रूमानी जुमले को गैरजरूरी तौर पर हकीकत में बदलता दोस्त सबसे अजीज महसूस होता है। फिर 'मीठा-मीठा घप्प, कड़वा-कड़वा थू' की मिसाल कायम करते हुए एक अच्छे और सच्चे दोस्त से दूरियां बढ़ाते हमें वक्त नहीं लगता।

फिक्र इतनी न जताओ
दोस्ती के हर दौर में तलाशे जाते रहे मायनों  और इबारतों का दायरा इतना वसीह है कि चंद लफ्जों में शायद ही इसे पूरी तरह समेटा जा सके। इन्हीं मायनों में से एक है फिक्र करना और खयाल रखना। अक्सर दोस्ती की गहराई इस बात से तय की जाती है कि हमें अपने दोस्त की कितनी फ्रिक है, कितना खयाल रखते हैं हम उसका। जैसे-जैसे हम दोस्त की आदतों से वाकिफ होते जाते हैं, उसी के मुताबिक हमारी फिक्र और खयाल रखने की आदत भी मुसलसल बढ़ती जाती है। कई बार तो हम दोस्त की हर छोटी से छोटी हरकत, परेशानी, यहां तक कि हर बात में अपना ख्याल जाहिर करने से भी खुद को रोक नहीं पाते। आहिस्ता-आहिस्ता यह हमारी फितरत बन जाती है और हम पुरजोर लहजे में अपनी मर्जी को दोस्त पर थोपने लग जाते हैं। बिना इस बात की परवाह किए कि अपनी जिंदगी पर उसका भी कोई अख्तियार है। इस मसले को दोबाला होने में तब जरा भी देर नहीं लगेगी जब दोस्त भी 'ठीक कह रहे हो' कहकर हमारी बात से इत्तेफाक जाहिर करेगा। अमूमन दोस्तों के बीच ऐसे हालात पैदा होते हैं, जब फिक्र और खयाल रखने की कोई हद बाकी नहीं रहती, और जो हमारी नजर में खयाल रखना है वह हमारे दोस्त के लिए मुसीबत का सबब बन जाता है। फिर दोस्ती की बेतकल्लुफी हो जाती है नदारद, हम खुद ही उठा लेते है वह दीवार जो दिखाई तो नहीं देती, लेकिन वक्त गुजरने के साथ-साथ जिसकी दीवारों पर वे अनकही पर्तें जम चुकी होती हैं, जिनके पार न तो हमारी आवाज जा पाती है और न ही उस पार से हम तक किसी हर्फ की गूंज पहुंचती है।

बाकी है मोहब्बत
बेखयाली में हम अक्सर इस रौशनदान को बंद कर देते हैं, जिसके जरिए हम तक खुदाई सुकून की रौशनी पहुंचती है। अपनी मुसलसल भागती जिंदगी में हम उन धागों को सीवन उधड़ने के डर से तोड़ते चले जाते हैं, जिनसे हमारा पूरा चोला सिला हुआ है। स्कूल की किताबों में पढ़े सबक हम भले ही भूल जाएं, लेकिन जिंदगी के वे सबक शायद कभी नहीं भूलते जो दोस्तों के साथ बिताए लम्हों में सीखे हैं। जब भी उदासी हमें घेरती है, जब भी हमें किसी मशविरे की जरूरत महसूस होती है, या जब भी खुशगवार लम्हें बिताने का जिक्र उठता है, हमें अपने दोस्त ही याद आते हैं। लड़ते-झगड़ते, मगर हंसते-मुस्कुराते बांहे फैलाए कलेजे से लगाने को तैयार दोस्त। वजह कोई भी रही हो, दरमियां दूरियां कितनी ही हों, फिर भी यादों में सबसे करीब होते हैं दोस्त। जिनकी दोस्ती की इमारत मोहब्बत और यकीन से लबरेज है, जो वक्त के साथ बदलती फितरतों और हालातों के बावजूद आसमान में सिर उठाए पूरी बुलंदी के साथ बरकरार है, यकीनन उनकी तामीर में वह मजबूती है जिसकी दीवारों में वक्त की सीलन को पैबस्त होने का कोई मौका हाथ नहीं लगा है। उनकी इस पुरयकीन तामीर और मजबूत बुनियाद को सलाम। जिनकी तामीर में यह सीलन पैबस्त हुई और दरकनें नमूदार हो गई हैं, उन्हें भी बस एक बार मुस्कुराते हुए बांहें फैलाने की जरूरत है। यकीन जानिए अब भी वहां यकीन की र्इंटें और ईमानदार मोहब्बत का गारा मौजूद है।

(27 मार्च 2011, रविवार को दैनिक जनवाणी, मेरठ में प्रकाशित)

मंगलवार, 7 जून 2011

मौसम का बदलता मिजाज़...

मौसम के बदलते मिजाज़ यानी जलवायु परिवर्तन पर आज सभी चिंतित हैं. इसके कारणों पर भी खूब चर्चा है और उपायों पर भी. विश्व पर्यावरण दिवस पर इस मुद्दे पर सभी ने कुछ न कुछ कहा है, लिखा है. एक आम आदमी पर पड़ रहे प्रभावों, मानवाधिकार के नज़रिए से उल्लेखित किये जाने वाले कुछ बिन्दुओं और अंतर्राष्ट्रीय प्रयासों की ईमानदारी पर सामाजिक कार्यकर्ता बीजू नेगी और अजय के झा से बातचीत पर आधारित एक रिपोर्ट हमने भी तैयार की. प्रस्तुत है उसी रिपोर्ट की प्रति...

पढ़ने के लिए कतरन पर क्लिक करें 

गुरुवार, 2 जून 2011

सुनहरे संगीत पर थिरकता हिंदुस्तान


कुछ अरसा पहले एक कॉमेडी शो में जब ये बतौर अतिथि जज आए थे, तब एक प्रतियोगी ने इन पर जो कमेंट किया था, वो कुछ यूं था, 'इतने सुर भरे पड़े हैं कि एसिडिटी भी हो जाए तो दो-तीन कंपोजिशन वैसे ही बाहर निकल आएंगी।' शो चूंकि कॉमेडी का था तो तारीफ भी कुछ उसी अंदाज में की गई, लेकिन यह बात गलत नहीं है कि उनके भीतर सचमुच सुर कुछ इस तरह भरे पड़े हैं कि आज भी हिंदुस्तान उनकी धुनों पर नाचता है और अपने प्यार का इजहार करता है। दर्शकों, श्रोताओं के बीच चलती फिरती सोने की तिजोरी जैसे संबोधन पा चुके अपनी अलग ही स्टाइल के लिए मशहूर आलोकेश उर्फ बप्पी लहरी का जन्म 27 नवंबर 1952 को संगीत की धरती कोलकाता में हुआ। एक तो संगीत की धरती और दूसरी ओर संगीतमय परिवार के माहौल ने बप्पी के बाल मन में ही संगीत का बीज बो दिया था। उनके पिता अपरेश लहरी बंगाल के प्रख्यात गायकों में शुमार किए जाते थे, तो उनकी मां बंसरी लहरी शास्त्रीय संगीत और श्याम संगीत की संगीतज्ञ और गायिका के रूप में जानी जाती थीं। 

बाल मन में संगीत का बीज कुछ ऐसे प्रस्फुटित हुआ कि मात्र तीन साल की उम्र में बप्पी ने तबला बजाना शुरू कर दिया था। यहीं से अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर ख्याति प्राप्त करने के उस सपने ने आंखें मलनी शुरू कीं, जिसे बप्पी लहरी कब का पूरा कर चुके हैं। बंगाली रंगमंच से शुरुआत करने वाले बप्पी लहरी की संगीत प्रतिभा कितनी अद्भुत रही होगी इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि 19 साल की उम्र में बप्पी फिल्मों के संगीत निर्देशक बन चुके थे। बंगाली फिल्म 'दादू' (1972) वह फिल्म थी, जिसने बप्पी को बतौर संगीत निर्देशक लोगों के सामने पहुंचाया। इसके बाद बप्पी ने मुंबई और सफलता की राह पकड़ी, जिस पर कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। 'नन्हा शिकारी' (1973) बतौर संगीत निर्देशक बप्पी की पहली हिंदी फिल्म थी, और 1975 में आई जख्मी से वे बतौर गायक-संगीतकार के रूप में पहचाने जाने लगे। इस फिल्म में मोहम्मद रफी और किशोर कुमार जैसे दिग्गज गायकों के साथ उन्होंने 'नथिंग इस इंपॉसिबल' गीत गाया। 70 से 90 के दशक के दौरान बप्पी लहरी इंडियन डिस्को म्युजिक के पर्याय बन चुके थे। मिथुन चक्रवर्ती के साथ उनकी फिल्म डिस्को डांसर के गीत 'आई एम अ डिस्को डांसर' पर आज भी लोग थिरकते हैं। डिस्को किंग कहे जाने वाले इस संगीतकार ने डिस्को म्युजिक को भारतीय खुशबू के साथ प्रस्तुत करने का अनूठा काम किया साथ ही विजय बेनेडिक्ट, शेरोन प्रभाकर, अलीशा चिनॉय जैसे गायकों को इंडस्ट्री के रूबरू कराया। वहीं ऊषा उथुप, आशा भोंसले और किशोर कुमार से भी डिस्को सांग गवाए।

1972 से लेकर अब तक के अपने संगीत से बप्पी लहरी ने न केवल श्रोताओं को थिरकने के लिए मजबूर किया है, बल्कि ऐसे गीत भी दिए हैं जो आज भी प्रेम की गहरी संवेदनाओं को प्रकट करने में श्रोताओं के दिल के बहुत करीब हैं। 'चलते-चलते मेरे ये गीत याद रखना', 'किसी नजर को तेरा इंतजार आज भी है', 'मंजिलें अपनी जगह हैं, रास्ते अपनी जगह', 'प्यार मांगा है तुम्हीं से', 'दिल में हो तुम आंखों में तुम', 'मुस्कुराता हुआ, दिल जलाता हुआ मेरा प्यार', 'प्यार कभी कम नहीं करना', 'याद आ रहा है तेरा प्यार', 'तू मुझे जान से भी प्यारा है', जैसे यादगार गीत देने वाले बप्पी पर दूसरे संगीतकारों का संगीत बिना उन्हें कोई रॉयल्टी या क्रेडिट दिए उपयोग करने का भी आरोप लगा। लेकिन 'बंबई से आया मेरा दोस्त, दोस्त को सलाम करो' कहने वाले बप्पी को आरोप लगाने वाले सलाम कर वापस चले गए। गोरी कलाइयों पर हरी-हरी चूड़ियों का जिक्र करने से लेकर सांवली-सलोनी की झील सी आंखों में दिल खोने के सफर में बप्पी लहरी के संगीत के समंदर की रवानगी में कहीं कमी नजर नहीं आती। तभी तो विशाल-शेखर जैसे संगीतकार उनके साथ टैक्सी नं. 9211 में बैठकर बंबई नगरिया का सफर करते हैं और ए आर रहमान जैसे महारथी उनके साथ एक लो एक मुफ्त वाला गुरु का फलसफा सिखाते हैं।

(25 मार्च 2011 को दैनिक जनवाणी, मेरठ में प्रकाशित)

बुधवार, 25 मई 2011

काम का मन नहीं है


आज काम करने का मन नहीं है
आज बस सोचना चाहता हूं
वही सब जो काम से जुड़ा है
मेरे या किसी के भी
जो किया जा चुका है
या फिर बाकी है जिसका किया जाना
लेकिन सोचना...

सोचना, काम नहीं होता
कोई नहीं मानता इसे काम
भले ही क्यों न होता हो यह
हर काम के पीछे की वजह
लेकिन सोचना सिर्फ सोचना होता है
काम नहीं होता

इसीलिए कहना पड़ रहा है मुझे
आज काम करने का मन नहीं है
आज बस सोचना चाहता हूं।

रविवार, 27 मार्च 2011

तर्क, विनम्रता और दृढ़ता के योग थे कमला प्रसाद

अच्छे आलोचक, साहित्य सर्जक की उनकी भूमिका परसाई रचनावली और वसुधा जैसे प्रगतिशील प्रकाशन से ही स्पष्ट हो जाती है, लेकिन वे इससे कहीं ज्यादा एक कार्यकर्ता और संगठनकर्ता थे। प्रगतिशील लेखक संघ का पूरे देश में विस्तार इसका उदाहरण है। कैंसर के बावजूद सतत कार्य करते कमला प्रसाद 25 मार्च 2011 को हमसे विदा हो गए। मध्य प्रदेश प्रगतिशील लेखक संघ के महासचिव विनीत तिवारी ने उन्हें इन शब्दों में याद किया।


उनसे आप लड़ सकते थे, नाराज हो सकते थे, लेकिन वो लड़ाई और नाराजगी कायम नहीं रह सकती थी। वे आलोचक थे इसलिए विश्लेषण उनका सहज स्वभाव था, साथ ही वे संगठनकर्ता थे इसलिए अपनी आलोचना सुनने, खामियों को दुरुस्त करने और दूसरों को गलतियां सुधारने का भरपूर मौका देने का जबर्दस्त संयम उनके पास था। कोई अगर एक अच्छे कार्यक्रम की अस्पष्ट सी आकांक्षा भी प्रकट कर दे, तो वे उसके सामने संसाधनों के प्रबंध से लेकर वक्ता, विषय आदि का विस्तृत खाका खींच निश्चित कर देते थे कि कार्यक्रम हो। सक्रियता और गतिविधि में उनका गहरा यकीन था। वे कहते भी थे कि अगर कुछ हो रहा है तो उसमें कुछ गलत भी हो सकता है और उसे ठीक भी किया जा सकता है। पूरी तरह पवित्र और सही तो वही बने रह सकते हैं जो कुछ करते ही न हों।
मध्य प्रदेश के प्रगतिशील लेखक संघ का महासचिव होने के नाते मेरा अनेक इकाइयों में जाना हुआ। हर जगह छोटे-बड़े अनेक साहित्यकार उनसे अपने परिचय का जिक्र करते। मुझे देखने का तो मौका नहीं मिला लेकिन कुमार अंबुज, हरिओम, योगेश वगैरह से कितनी ही बार जाना कि उन्होंने संगठनकर्ता के नाते कितनी ही असुविधाजनक यात्राएं कीं। कहीं से इकाई बनाने का संकेत मिलते ही शनिवार-रविवार की छुट्टी में चल देते। रिजर्वेशन तो दूर की बात, सीट न मिलने पर घंटों खड़े रहकर भी संगठन के विस्तार की चाह में दूर-दूर दौड़े जाते थे। वे अपना वैचारिक और सांगठनिक गुरू परसाई जी को कहा करते थे और उन्होंने अपने गुरू के नाम और काम को आगे ही बढ़Þाया। नामवर जी से लेकर होशंगाबाद के गोपीकांत घोष तक उन्हें कमांडर कहते थे। कार्यक्रम की योजना वे कमांडर की ही तरह बनाते भी थे और फिर एक साधारण कार्यकर्ता की तरह काम में हिस्सा भी बंटाते थे, लेकिन कभी शायद ही किसी ने उन्हें आदेशात्मक भाषा में बात करते सुना हो। उल्टे हम कुछ साथियों को तो कई बार कुछ अयोग्य व्यक्तियों के प्रति उनकी उतनी विनम्रता भी बर्दाश्त नहीं होती थी। लेकिन सांस्कृतिक संगठन बनाने का काम तुनकमिजाजी और अक्खड़पन से नहीं, बल्कि तर्क, विनय और दृढ़ता के योग से बनता है, यह सीख हमने उनके काम को देखते-देखते हासिल की। उनको याद करते हुए राजेन्द्र शर्मा की याद न आए, मुमकिन ही नहीं। राजेन्द्र शर्मा ने जैसे उनके काम में जितना हो सके उतना हिस्सा बंटाने को ही अपना मिशन बना लिया था।
कमला प्रसाद की प्रतिष्ठा आलोचक के रूप में, लेखक व संपादक के रूप में खूब रही है। लेकिन मेरा मानना है कि उन्होंने सांगठनिक कार्य का चयन अपनी प्राथमिकता के तौर पर कर लिया था और इसलिए अपनी लेखकीय क्षमताओं के भरपूर दोहन के बारे में वे बहुत सजग कभी नहीं रहे। उनका अपना लेखन, किसी हद तक पठन-पाठन भी, संगठन के रोज के कामों के चलते किसी न किसी तरह प्रभावित होता ही था। फिर भी उन्होंने खूब लिखा। 'वसुधा' में उनके संपादकीय तो अनेक रचनाकारों के लिए राजनीतिक व संस्कृतिकर्म के रिश्तों की बुनियादी शिक्षा, और अनेक के लिए रचनात्मक असहमति व लेखन के लिए उकसावा भी हुआ करते थे। लेकिन वे ऐसे लोगों की बिरादरी में थे, जिन्होंने संगठन के लिए, और नए रचनाकार तैयार करने के लिए अपने खुद के लेखक की महत्त्वाकांक्षा को कहीं पीछे छोड़ दिया था।
प्रगतिशील लेखक संगठन का देश भर में विस्तार। पहले हिन्दी क्षेत्र में संगठन को एक साथ सक्रिय करना, फिर उर्दू के लेखकों से संपर्क और हिन्दी-उर्दू की प्रगतिशील ताकतों को इकट्ठा करना, फिर कश्मीर में, उत्तर-पूर्व में, बंगाल में और दक्षिण भारत में संगठन का आधार तैयार करना, और फिर समान विचार वाले संगठनों से भी संवाद कायम करना, इस सबके साथ-साथ 'वसुधा' का संपादन। दरअसल इतना काम आदमी तब ही कर सकता है, जब उसके सामने एक बड़ा लक्ष्य हो। यह एक बड़े विजन वाले व्यक्ति की कार्यपद्धति थी। अभी एक महीना पहले जब कालीकट, केरल में हम लोग राष्ट्रीय कार्य परिषद की बैठक में साथ में थे, तभी देश भर से आए संगठन के प्रतिनिधियों ने बेहद प्यार और सम्मान के साथ उनका 75वां जन्मदिन वहीं सामूहिक रूप से मनाया था। कैंसर का असर उनके शरीर पर भले ही दिखने लगा था, लेकिन कैंसर उनके मन पर बिल्कुल बेअसर था। वहां बैठक में और बाद में केरल से भोपाल तक के सफर के दौरान उनके पास ढेर सारे सांगठनिक कामों की फेहरिस्त थी, ढेर सारी योजनाएं थीं। सांप्रदायिक और साम्राज्यवादी ताकतों से अपने सांस्कृतिक औजारों से किस तरह मुकाबला किया जाए, किस तरह हम समाजवादी दुनिया के निर्माण में एक ईंट लगाने की अपनी भूमिका ठीक से निभा सकें, यह सोचते उनका मन कभी थकता नहीं था।
उनके जाने से उस पूरी प्रक्रिया में ही एक अवरोध आएगा, जो उन्होंने शुरू की थी। लेकिन हम उम्मीद करें कि देश में उनके जोड़े इतने सारे लेखक मिलकर उसे रुकने नहीं देंगे, आगे बढ़ाएंगे, यही उनके जाने के बाद उन्हें अपने साथ बनाए रखने का तरीका है, और यही उनके प्रति श्रद्धांजलि भी।

- विनीत तिवारी
महासचिव, मध्य प्रदेश प्रगतिशील लेखक संघ,
संपर्क: 2, चिनार अपार्टमेंट, 172, श्रीनगर एक्सटेंशन, इन्दौर-452018 
मोबाइल: ०९८९३१९२७४०

(२७ मार्च २०११ को दैनिक जनवाणी में प्रकाशित)

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.